पन्ना:-यहां से होगा नव वर्ष का स्वागत, चौमुखनाथ, सिद्ध नाथ एवं श्रेयांशगिरी पहुंचेंगे हजारों श्रद्धालु - bundelkhandvoice.com
bundelkhandvoice.com

पन्ना:-यहां से होगा नव वर्ष का स्वागत, चौमुखनाथ, सिद्ध नाथ एवं श्रेयांशगिरी पहुंचेंगे हजारों श्रद्धालु

Nature
Listen to this article

रमेश अग्रवाल,पन्ना-(मध्यप्रदेश)

पन्ना जिले अंतर्गत सलेहा क्षेत्र सनातन तथा जैन धर्म की वैभवशाली संस्कृति का प्रतीक रहा है ,सलेहा से 6 किलोमीटर दूर स्थित ग्राम नचने में गुप्तकालीन पांचवी शताब्दी में निर्मित प्रसिद्ध चौमुखनाथ मंदिर मैं भगवान भोलेनाथ की दुर्लभ चतुर्मुखी अद्वितीय प्रतिमा स्थापित है, प्रतिमा में भगवान भोलेनाथ के 4 मुख अलग-अलग प्रकार की आकृति में अलौकिक रूप प्रदान किए हुए हैं ।सलेहा से 8 किलोमीटर दूर बिल्हा में प्रसिद्ध अगस्त मुनि आश्रम राम पथ गबन के नाम से पर चिन्हित स्थल भगवान शिव का प्राचीन मंदिर तथा भगवान राम की बनवासी बैश की अद्वितीय प्रतिमा स्थापित है। जिसका इतिहास काफी प्राचीन है ,सिद्धनाथ में भगवान श्रीराम ,अगस्त मुनि के मिलन स्थल सिद्धनाथ मंदिर त्रेता युग की कथा के दर्शन कराता है, मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के साक्षी इस दिव्य स्थली को श्री राम पथ भवन में शामिल किया गया है ।सलेहा समीपस्थ नचने में स्थित श्रेयांश गिरी पहाड़ी जैन धर्मावलंबियों का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है


जहां पर विमल सागर महाराज एवं विराग सागर जी महाराज द्वारा पांच गुफाओं को तीर्थ स्थल का स्वरूप प्रदान किया गया है, यहां पर गुफा क्रमांक 2 में महावीर स्वामी और मगरमच्छ गुफा में भगवान आदिनाथ जी की खड़गासन मूर्ति तथा गुफा क्रमांक 1 और 3 में दुर्लभ जैन प्रतिमा स्थापित है तथा विशाल मूर्तियों को स्थापित करने का काम किया जा रहा है ,इस तीर्थ स्थल पर आचार्य श्री विराग सागर जी महाराज द्वारा विगत 2003 एवं 2014 में विशाल गजरथ महोत्सव का आयोजन भी किया जा चुका है ।इस बार नए वर्ष के अवसर पर छुल्लिका 105 विस्मिता श्री माताजी एवं 105 विगम्याश्री माता जी की उपस्थिति में जिला स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन 31 दिसंबर को राजा सेणिक नाटक मंचन एवं 1 जनवरी को महामस्तिका विशेष का आयोजन साथ ही 108 मंडल के द्वारा भक्तांबर विधान का आयोजन किया जा रहा है। यूं तो हमेशा इन प्रसिद्ध स्थलों में श्रद्धालु दर्शन एवं भ्रमण के लिए आते हैं परंतु हर साल नव वर्ष के उपलक्ष्य में हजारों की संख्या में लोगों के यहां पहुंचने से इस स्थल की रौनक कई गुना बढ़ जाती है पिछले वर्ष 2020 में हजारों श्रद्धालु यहां पहुंचे थे ।इस बार विगत समय से कोरोनावायरस के कारण चौमुख नाथ मंदिर को बंद कर दिया गया था लेकिन पुनः प्रशासन द्वारा चौमुख नाथ मंदिर को खोल दिया गया है जिस वजह से अधिक से अधिक श्रद्धालुओं की पहुंचने की संभावना है और श्रेयांश गिरी में जिला स्तरीय कार्यक्रम होने के कारण गत वर्ष से अधिक श्रद्धालु पहुंचेंगे। जिला प्रशासन के द्वारा यहां की व्यवस्था को लेकर सदा की तरह उदासीनता प्रगट की जाती रही है चाहे वह कोई भी पर्व हो। यहां पर सतना, पन्ना, कटनी ,जबलपुर एवं अन्य प्रदेशों के धर्मावलंबियों द्वारा विशाल शिव प्रतिमा एवं अजंता की गुफाओं की आकृति से बनी प्राकृतिक सुंदरता के दर्शन करने बड़ी संख्या में पहुंचते हैं ।लेकिन यहां के श्रद्धालुओं तथा पार्यटको को किसी तरह की सुविधा मुहैया नहीं कराई जाती, विगत वर्षों में यदा-कदा दुर्घटना एवं चोरी -जेब कतरी तथा आवागमन के वाहनों की भारी समस्या सामने आ चुकी है, लेकिन धर्मावलंबियों को ना तो सही ढंग से मंदिर में प्रवेश एवं आवागमन की उचित व्यवस्था उपलब्ध कराई जाती ना ही पेयजल, वाहन पार्किंग, स्वास्थ्य सुविधा तथा बिछड़े हुए परिवारों के लिए अलाउस की व्यवस्था एवं पंडाल, सुलभ शौचालय ,वर्तमान समय में पड़ रही कड़ाके की ठंड को लेकर जिला प्रशासन से अलाव की व्यवस्था जैसी प्राथमिक व्यवस्था को हमेशा नजरअंदाज किया जाता रहा है। इस वर्ष भी स्थानीय प्रशासन एवं जिला प्रशासन द्वारा नए वर्ष को लेकर कोई भी योजना नहीं बनाई गई है जिससे हालात पूर्वक रहने की स्थितियां नजर आ रहे हैं।

Nature

Related posts

पन्ना – वन अपराध में मोटर साइकिल जप्त

Bundelkhand Voice

नीलगाय का शिकार: तीन आरोपी गिरफ्तार,दो पहले पहुंच चुके है जेल

Bundelkhand Voice

बिना अनुमति के कर रहे थे बफर के जंगल छलनी, वन विभाग ने खदेड़ा

Bundelkhand Voice

Leave a Comment


Designed by Reddy Infotech +91 7258040002

Ⓒ 2020 - Bundelkhand Voice. All Right Reserved.